वामपंथी राजीव रे बने डूटा के 25वें अध्यक्ष

नयी दिल्ली, 01 सितंबर: दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के चुनाव में वाम समर्थित डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट(डीटीएफ) के उम्मीदवार राजीव रे अध्यक्ष पद के लिए चुन लिए गए हैं। कल आधी रात बाद आये चुनाव नतीजों के अनुसार किरोड़ी मल काॅलेज में दर्शनशास्त्र के प्राध्यापक श्री रे ने भाजपा समर्थक नेशनल डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट(एनडीटीएफ) के श्री वी एस नेगी को 261 मतों से पराजित किया है। श्री रे को 2636 मत मिले जबकि श्री नेगी को 2575 मत मिले। इस चुनाव में लगातार तीसरी बार वामपंथी उम्मीदवार अध्यक्ष चुना गया है। इससे पहले वामपंथी उम्मीदवार नंदिता नारायण लगातार दो बार से अध्यक्ष थीं। गत चुनाव में उन्होंने श्री नेगी को हराया था। इस चुनाव में सुरिंदर सिंह राणा तीसरे स्थान पर रहे जो एकेडमिक फ़ॉर एक्शन एंड डेवलपमेंट (एएडी)के समर्थित उम्मीदवार थे। उन्हें मात्र 1930 मत मिले। विश्वविद्यालय के चुनाव अधिकारी प्रोफेसर उज्ज्वल कुमार सिंह के अनुसार चुनाव में कुल 7386 मत पड़े जबकि कुल मत 9682 थे। 377 मत अवैध रहे। अध्यक्ष पद के लिए सुनील बाबू को 48 वोट मिले। श्री रे ने यूनीवार्ता से कहा कि इस चुनाव में प्रगतिशील लोकतांत्रिक ताकतों की जीत तो हुई है और उन ताकतों की हार हुई है जो विश्वविद्यालय में आतंक और हिंसा का माहौल बना कर अभिव्यक्ति की आज़ादी तथा विचार विमर्श की परंपरा को ख़त्म करना चाहते हैं। श्री रे ने आरोप लगाते हुए कहा कि इन ताकतों को सत्ता का संरक्षण प्राप्त है। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई शिक्षा के निजीकरण तथा केन्द्र द्वारा अनुदान में कमी के खिलाफ रहेगी और पांच सितंबर को शिक्षक दिवस पर जेल भरो अभियान जारी रहेगा। डूटा की 15 सदस्यीय कार्यकारिणी में एनडीटीएफ को 4 तथा एएडी को भी 4 सीटें मिली हैं जबकि डीटीएफ को 3 सीटें मिली हैं। इंटेक को दो, यूटीएफ (यूनाइटेड टीचर्स फ्रंट) को एक और समाजवादी शिक्षक फ्रंट को एक सीट मिली हैं । (वार्ता)
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com