उड़ीसा उच्च न्यायालय के किसी भी न्यायाधीश के घर पर छापेमारी नहीं की : सीबीआई

नयी दिल्ली, 20 सितंबर : सीबीआई अधिकारियों के एक दल के खिलाफ अनधिकार प्रवेश का मामला दर्ज किये जाने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो ने आज इन आरोपों का खंडन किया कि उसने उड़ीसा उच्च न्यायालय के किसी वर्तमान न्यायाधीश के घर पर छापा मारा था। ओडिशा पुलिस ने आज सीबीआई अधिकारियों के एक दल के खिलाफ अनधिकार प्रवेश का एक मामला दर्ज किया। इन अधिकारियों ने कल देर रात छापा मारने और तलाशी के लिये कटक में उड़ीसा उच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश के घर में कथित तौर पर घुसने का प्रयास किया था। सीबीआई प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘गोपनीय सूचना के आधार पर सीबीआई ने एक व्यक्ति को एक निजी मेडिकल कॉलेज से रिश्वत के रूप में मिली एक करोड़ रुपये की रकम के साथ पकड़ा।’’ उन्होंने बताया कि उसी मामले में सीबीआई उड़ीसा उच्च न्यायालय के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश के साथ अन्य लोगों की भूमिका की जांच कर रही है। उन्होंने बताया, ‘‘जांच के दौरान सीबीआई टीम कल रात कई स्थानों पर गयी। इसमें उड़ीसा उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश के पुराने और वर्तमान पते पर भी सीबीआई टीम गई।’’ दयाल ने बताया कि इस दौरान सीबीआई टीम अभियोगात्मक दस्तावेज और नकदी बरामद करने के लिये स्वतंत्र गवाहों के साथ उड़ीसा उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश के कटक स्थित पूर्व आवास पर भी गई। उन्होंने बताया, ‘‘गेट पर पहुंचने पर सीबीआई टीम को बताया गया कि सेवानिवृत्त न्यायाधीश अब वहां नहीं रहते हैं। सीबीआई तत्काल वहां से रवाना हो गई और स्थानीय पुलिस को इस बारे में बताया।’’
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com