राहुल का उत्तरी कर्नाटक का 4 दिवसीय दौरा सम्पन्न

बेंगलुरू 13 फरवरी: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक में अगले तीन माह में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए मतदाताओं को लुभाने की खातिर राज्य के अति पिछड़े क्षेत्र का अपना चार दिवसीय दौरा आज समाप्त किया। राज्य में अप्रैल या मई में विधानसभा चुनाव होने प्रस्तावित हैं और सत्तारूढ़ कांग्रेस सत्ता बरकरार रखने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है। भारतीय जनता पार्टी भी इस बार कोई जोखिम नहीं लेना चाह रही है और उसने लाेक सभा सांसद बी एस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद का दावेदार घोषित किया है। श्री गांधी ने मतदाताआें को लुभाने के लिए कईं मंदिरों में पूजा अर्चना की और कई जगह किसानों से बातचीत कर उनकी समस्याओं के बारे में जाना तथा दलित नेताओं से भी मुलाकात की। उन्होंने मुख्यमंत्री सिद्धारामैया को निर्देश दिया कि सदाशिव आयाेग की रिपोर्ट के क्रियान्वयन पर गौर करें, ताकि अनुसूचित जाति के वर्गों के लोगों की प्रोन्नति में आंतरिक आरक्षण को सुनिश्चित किया जा सके। श्री गांधी ने जन आशीर्वाद रैली और जनजातीय रैली का आयोजन किया तथा अपने भाषणों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि जिन वादों को कर यह सरकार सत्ता में आई थी चार वर्ष से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी उन्हें पूरा नहीं किया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री ने चुनाव प्रचार के दौरान प्रति वर्ष दो लाख लाेगों को रोजगार देेने का दावा किया था लेकिन अपने इस वादे को पूरा करने में वह पूरी तरह असफल रहे हैं आैर रोजगार के इच्छुक लोगों की संख्या में दिनाेंदिन बढ़ाेत्तरी हो रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार हर मोर्चे पर विफल रही है। उन्हाेंने कहा कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल में देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की दर में गिरावट आई है और सरकार ने विदेशों में जमा काले धन को लाने का जो वादा किया था वह उसमें पूरी तरह नाकाम रही है। नोटबंदी ऐसी भयानक गलती थी, जो इस सरकार ने की है और इसका खामियाजा आम आदमी ,मध्यम वर्ग,छोटे कारोबारियों तथा किसानों को उठाना पड़ा। उन्हाेंने श्री मोदी से यह भी स्पष्ट करने काे कहा कि उन्हें यह बताना चाहिए कि आखिर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी का टर्नओवर मात्र तीन माह में 50 हजार से बढ़कर 80 कराेड़ कैसे हो गया है। नोटबंदी का जिक्र करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि यह सब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के इशारे पर किया गया है, जाे इस सरकार को चला रहा है और वित्त मंत्री अरूण जेटली का कोई बस नहीं चलता है। श्री गांधी ने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आने के बाद मौजूदा वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) कानून में सुधार किया जाएगा और इसे सरल बनाया जाएगा। कांग्रेस एक कानून को लागू करने की कोशिश करेगी और इसे लेकर लोगों में जो भ्रम है उसे दूर किया जाएगा।इस कानून को लेकर कांग्रेस की एक ही धारणा है कि इसे अधिक से अधिक सरल बनाया जाए ताकि लोगों को आ रही परेशानियों को कम किया जा सके।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com