करदाता जीएसटी पूर्व के ‘क्रेडिट’ दावे के लिये 30 अप्रैल तक भर सकते हैं फार्म

नयी दिल्ली, चार अप्रैल( भाषा) वित्त मंत्रालय ने आज कहा कि तकनीकी कारणों से जो करदाता जीएसटीएन पोर्टल पर जीएसटी लागूहोने के पहले के‘ क्रेडिट’ को लेकर फार्म ट्रान-1 जमा नहीं कर पाये, वे अब30 अप्रैल तक प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं। हालांकि, इन करदाताओं को उस‘ क्रेडिट’ रकम को बदलने की अनुमति नहीं होगी जो उन्होंने फार्म भरते समय दावा किया था। मंत्रालय ने एक परिपत्र में कहा कि बड़ी संख्या में करदाता ट्रान-1 भरने की प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाये क्योंकि उन्होंने आईटी संबंधित खामियों की वजह से डिजिटल तरीके से उसका सत्यापन नहीं कर सके। जीएसटीएन‘ इलेक्ट्रानिक आडिट ट्रेल’ के आधार पर ऐसे करदाताओं की पहचान करेंगे। परिपत्र के अनुसाार, ‘‘ यह निर्णय किया गया है कि ऐसे सभी करदाताओं जिन्होंने फार्म भरने की कोशिश की लेकिन27 दिसंबर2017 या उससे पहले तकनीकी कारणों से ट्रान-1 प्रक्रिया( मूल या संशोधित) को पूरा नहीं कर पाये, उन्हें इस प्रक्रिया को पूरा करने का मौका दिया जाएगा।’’ जरूरत पड़ने पर जीएसटीएन केंद्र एवं राज्यों के संबंधित अधिकारियों से अतिरिक्त दस्तावेज तथा आंकड़े आदि प्राप्त करने अथवा उन करदाताओं का सत्यापन करने के लिये अनुरोध कर सकता है जिन्हें इस प्रक्रिया की अनुमति मिलनी चाहिए। मंत्रालय ने कहा, ‘‘ उन करदाताओं को ट्रान-1 प्रक्रिया पूरी करने के लिये30 अप्रैल का समय दिया गया है जो तकनीकी कारणों से ऐसा नहीं कर सके। साथ जीएसटीआर3 बी भरने की प्रक्रिया पूरी करने के लिये31 मई2018 तक का समय दिया गया है... ।’’ ट्रान-1 उन करदाताओं को भरना है जिन्होंने जीएसटी कानून के अंतर्गत अपना पंजीकरण कराया और वे जीएसटी व्यवस्था से पहले दिये गये कर के‘ क्रेडिट’ का दावा करना चाहते हैं। भाषा
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com