नरोदा पाटिया मामले में बरी होने पर माया कोडनानी ने कहा, सत्य हमेशा जीतता है

अहमदाबाद , 21 अप्रैल ( भाषा ) : वर्ष 2002 के नरोदा पाटिया नरसंहार मामले में बरी होने वाली गुजरात की पूर्व मंत्री माया कोडनानी ने आज कहा कि उन्होंने सक्रिय राजनीति में शामिल होने के बारे में अभी विचार नहीं किया है , लेकिन वह भाजपा की कार्यकर्ता बनी रहेंगी। उन्होंने कल अपने बरी होने पर कहा , ‘‘ सत्य की हमेशा जीत होती है ’’ । यह फैसला करीब एक दशक बाद आया । उन्हें भीड़ द्वारा 97 लोगों की हत्या किए जाने के मामले में आरोपी बनाया गया था। कोडनानी ने एक स्थानीय टीवी चैनल से कहा , ‘‘ मैं एक भाजपा कार्यकर्ता हूं , मैं एक भाजपा कार्यकर्ता थी और भाजपा की कार्यकर्ता रहूंगी। मैंने इसके बारे में ( सक्रिय राजनीति में लौटने ) अभी सोचा नहीं है , क्योंकि अदालत का फैसला अभी कल ही आया है। मैं एक पार्टी कार्यकर्ता हूं और आगे भी बनी रहूंगी। ’’ तीन बार विधायक रहीं पूर्व मंत्री ने कहा कि उन्हें पूरे परिवार ने समर्थन दिया , जिससे इस मुश्किल वक्त से बाहर आने की उन्हें ‘‘ शक्ति ’’ मिली। भाजपा नेताओं द्वारा उनकी रिहाई का स्वागत किये जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा , ‘‘ मैं एक भाजपा कार्यकर्ता हूं और इसलिये , पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और शुभचिंतकों द्वारा ऐसा किया जाना स्वाभाविक है। ’’ पेशे से स्त्री रोग विशेषज्ञ कोडनानी अहमदाबाद की नरोदा सीट से 1998, 2002 और 2007 में विधायक चुनी गईं। गुजरात में 2007 में तत्कालीन नरेंद्र मोदी सरकार में उन्हें महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री बनाया गया था। गोधरा कांड के बाद हुई हिंसा की जांच कर रहे विशेष जांच दल ( एसआईटी ) ने उन्हें 2008 में नरोदा पाटिया और नरोदा गाम में हुये नरसंहार में आरोपी बनाया था। अगस्त 2012 में विशेष एसआईटी अदालत ने नरोदा पाटिया मामले में उनकी भूमिका को लेकर उन्हें 28 साल कैद की सजा सुनाई थी। उन्हें मार्च 2009 में गिरफ्तार किया गया था लेकिन जुलाई 2014 से वह जमानत पर थीं।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com