ऐसे करें सूर्य देव की आराधना, बढ़ेगा आत्मविश्वास मिलेगी सफलता

अहमदाबाद : मई 06,  ज्योतिष में सूर्य को आत्मा माना गया है। इसलिए, जब भी इंसान में आत्मविश्वास की कमी होती है तो उसे सूर्य की उपासना करने के लिए कहा जाता है। सूर्य की पूजा से हमें कई लाभ मिलते हैं। इन्हें कलियुग का साक्षात देवता भी कहा जाता है। सुबह के सूर्य की आराधना हमें कई तरह से लाभ देती है। अगर सुबह-सुबह सूर्य को स्नान के बाद रोज जल चढ़ाने की आदत डाल ली जाए तो जीवन में किसी क्षेत्र में असफलता नहीं मिलती है।

अगर कुंडली में सूर्य की स्थिति खराब हो तो इंसान दूसरों से दब कर रहता है। अपने हक की बात नहीं कर पाता और शासकीय कार्यों में भी उसे परेशानी आती है। अगर सूर्य को कुंडली में मजबूत करना हो तो सुबह जल्दी उठना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। अगर उगते सूरज के साथ हम बिस्तर छोड़ देते हैं तो सूर्य शुभ फल देने लगता है।


सूर्य अच्छा हो तो इंसान को जीवन में सात फायदे मिलते हैं।

1 - सेल्फ कांफिडेंस बढ़ता है। इंसान में किसी भी काम को कर लेने के लिए आत्मविश्वास जागता है।

2 - दिमाग में बुरे विचार नहीं आते। इंसान हमेशा पॉजीटिव सोचता है।

3 - शासकीय कार्यों में सफलता मिलती है।

4 - सरकारी नौकरी में लाभ की स्थिति बनती है।

5 - पिता से प्रेम बढ़ता है। पिता से सहायता और विरासत मिलती है।

6 - ऑफिस में आपके लिए माहौल ठीक होता है। जिससे धन लाभ के योग बनते हैं।

7 - वैवाहिक रिश्तों में दूरियां कम होती हैं, तलाक के योग टलते हैं।

ऐसे करें सूर्य की आराधना


1 - सुबह 5 से 6 के बीच जागने की आदत डालें।

2 - सुबह उठकर थोड़ा व्यायाम करें फिर स्नान करके साफ कपड़े पहनें।

3 - सूर्योदय के बाद सूर्य को जल का अर्घ्य दें। तांबे के लोटे में ताजा पानी भर कर चढ़ाएं।

4 - सूर्य को अर्घ्य देते समय हाथों को ऊंचा रखें, गिरते पानी की धारा में से सूर्य के दर्शन करें।

5 - अर्घ्य देते समय ऊं नमो भगवते आदित्याय नमः मंत्र का जाप करते रहें।

6 - इसके बाद अगर समय हो तो आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें।

इस क्रम को रोजाना दोहराएं। इससे आपके जीवन में नेगेटिविटी खत्म हो जाएगी, आत्मविश्वास बढ़ेगा जिससे कि आप अपने काम को बेहतर तरीके से अंजाम दे पाएंगे।

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com