एशियाई जूनियर चैम्पियनशिप में भाग लेगा पाकिस्तान : भारतीय कुश्ती महासंघ

नयी दिल्ली, 11 जुलाई (भाषा) पाकिस्तानी पहलवानों के एशियाई जूनियर चैम्पियनशिप में भाग लेने का रास्ता आज साफ हो गया। भारतीय कुश्ती महासंघ ने पड़ोसी देश के दल के मूवमेंट को टूर्नामेंट स्थल तक ही सीमित रखने का वादा किया जिसके बाद गृह मंत्रालय ने पाकिस्तानी टीम को मंजूरी दी। महासंघ को कल ही इस छह दिवसीय चैम्पियनशिप के लिये मंजूरी मिल गयी थी लेकिन गृह मंत्रालय ने इसमें पाकिस्तान, इराक और अफगानिस्तान की भागीदारी पर रोक लगा दी थी। महासंघ को डर था कि अगर पाकिस्तानी पहलवानों को वीजा नहीं दिया गया तो विश्व संस्था यूनाईटेड वर्ल्ड रेसलिंग (यूडब्ल्यूडब्ल्यू) उस पर जुर्माना लगा सकती है। पाकिस्तानी पहलवान 2015 एशियाई कैडेट चैम्पियनशिप में भाग नहीं ले पाये थे क्योंकि गृह मंत्रालय ने उन्हें मंजूरी देने से इनकार कर दिया था। भारतीय कुश्ती महासंघ के सहायक सचिव विनोद तोमर ने पीटीआई से कहा, ‘‘हमें गृह मंत्रालय से संदेश मिला कि पाकिस्तान के पहलवान भारत आकर प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं। ’’ तोमर ने कहा, ‘‘लेकिन इसके लिये हमने अपराध शाखा से वादा करना पड़ा कि हम पाकिस्तानी पहलवानों की जिम्मेदारी लेंगे। हमें सुनिश्चित करना होगा कि पाकिस्तानी पहलवान होटल और प्रतियोगिता स्थल के अलावा कहीं और नहीं जायें। ’’ भारतीय महासंघ के अधिकारी ने यह भी कहा कि इराक और अफगानिस्तान के पहलवानों ने टूर्नामेंट - फ्री स्टाइल और ग्रीको रोमन - के लिये कोई भी प्रविष्टि नहीं भेजी है। इस प्रतियोगिता का आयोजन 17 से 22 जुलाई तक केडी जाधव स्टेडियम में किया जायेगा। भारतीय महासंघ के अध्यक्ष बीबी शरण सिंह ने इस मुद्दे को सुलझाने के लिये गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात का समय मांगा था लेकिन इसकी जरूरत ही नहीं पड़ी। महासंघ के सचिव वी एन प्रसूद ने इस फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा, ‘‘यह हमारे और चैम्पियनशिप के लिये अच्छा है। पिछली बार भी पाकिस्तानी पहलवानों को मंजूरी नहीं दी गयी थी और इससे हमारे लिये परेशानी खड़ी हो गयी थी। उन्होंने यूनाईटेड वर्ल्ड रेसलिंग में शिकायत दर्ज करायी थी। इस बार उन्होंने पहले ही यूडब्ल्यूडब्ल्यू से बात कर ली थी। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम खेल और अपने खिलाड़ियों के विकास के लिये इन चैम्पियनशिप का आयोजन करते हैं। हमें खुशी है कि अब हम बिना किसी परेशानी के इसका आयोजन कर सकते हैं। ’’ इस फ्रीस्टाइल और ग्रीको रोमन स्टाइल की चैम्पियनशिप में 100 महिलाओं सहित 18 देशों के 300 पहलवान भाग लेंगे जिसमें 10 स्वर्ण, 10 रजत और 20 कांस्य पदक दांव पर लगे होंगे। हाल में पाकिस्तान के स्क्वाश खिलाड़ियों को भी 17 जुलाई से चेन्नई में होने वाली जूनियर विश्व चैम्पियनशिप के लिये वीजा हासिल करने में जूझना पड़ा था। भारत और पाकिस्तान ने 2007 के बाद से पूर्ण द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज नहीं खेली है क्योंकि भारत सरकार दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण संबंधों के चलते बीसीसीआई को इसके लिये मंजूरी नहीं दे रही है।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com