आप पर बरसेगी शनि देव की कृपा अगर शनिवार के दिन काली गाय को खिलाएंगे ये चीज़

जुलाई, 2018:  शनिवार को शनि और हनुमानजी का दिन माना जाता है इसीलिए इस दिन इनकी पूजा का विशेष महत्व है। ज्योतिष के अनुसार शनिदेव की कृपा पाने के लिए शनिवार श्रेष्ठ दिन है। इस दिन किए गए उपायों से शनि के दोष शांत हो सकते हैं। मान्यता है कि इस दिन हनुमानजी की पूजा करने से शनि के अशुभ फलों से मुक्ति मिलती है। इसी वजह से कई लोग शनिवार को हनुमानजी की पूजा करते है। इस दिन काली गाय की पूजा कर बूंदी के लड्डू खिलाने से शनि दोष से राहत मिलती है और कैरियर में सफलता मिल सकती है।यहां जानिए शनिवार को किए जाने वाले उपाय...

- सूर्यास्त के बाद किसी ऐसे पीपल के पास दीपक जलाएं जो सुनसान स्थान पर हो या किसी मंदिर में स्थित पीपल के पास भी दीपक जला सकते हैं। इससे धन संबंधी परेशानियां हो सकती हैं।
- शनिदेव को तेल अर्पित करें और पूजन करें। शनिदेव को नीले पुष्प चढ़ाएं।
- पीपल को जल चढ़ाएं, पूजा करें और सात परिक्रमा करें।
- हर शनिवार सुबह-सुबह स्नान आदि कर्मों से निवृत्त होकर तेल का दान करें। इसके लिए एक कटोरी में तेल लें और उसमें अपना चेहरा देखें, फिर तेल का दान किसी जरूरतमंद व्यक्ति करें।
- हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का चढ़ाएं। हनुमान चालीसा का पाठ करें।
- इस दिन दान का विशेष महत्व होता है इसीलिए गरीबों को खाना खिलाएं और जरूरत का सामान दान में दें। इससे शनिदेव की कृपा मिलती है।
- हर शनिवार व्रत रखें। सूर्यास्त के समय हनुमानजी की पूजा करें। पूजा में सिंदूर, काली तिल्ली का तेल, तेल का दीपक और नीले फूल चढ़ाएं। हनुमानजी के भक्तों पर शनि के अशुभ योगों का असर नहीं होता है।
- शनिवार को किसी काली गाय की पूजा करें। गाय को कुमकुम, चावल चढ़ाएं। बूंदी के लड्डू खिलाएं और गाय की परिक्रमा करें। गाय की पूजा करते समय सावधानी अवश्य रखें। इस उपाय से शनि के दोष दूर हो सकते हैं और कैरियर में सफलता मिल सकती है।

शनिदेव को माना जाता है न्याय का देवता

- शनि को ग्रहों का न्यायाधीश माना गया है। शनि ही हमारे शुभ-अशुभ कर्मों का फल प्रदान करता है, इसीलिए अधार्मिक कामों से बचना चाहिए।
- जो लोग गलत काम करते हैं, उन्हें शनि के क्रोध का सामना करना पड़ता है। गरीब लाेगों को सताने वालों से शनिदेव नाराज ही रहते हैं इसीलिए किसी गरीब का बुरा नहीं करना चाहिए।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com