ज्योतिष: आज रविवार को सूर्य देव का करे ये उपाय, चमकेगी किस्मत, बढ़ेगा मान सम्मान

अगस्त 05, 2018:  सूर्य देव हमें साक्षात दर्शन देकर ऊर्जा प्रदान करते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य को मिलाकर 9 ग्रह माने गए हैं जिनमें सूर्य को राजा माना जाता है। इसीलिए सूर्य देव की कृपा से जीवन के सभी कष्ट दूर हो सकते हैं। अगर आपकी कुंडली में सूर्य या अन्य किसी ग्रह को लेकर दोष है तो कुछ आसान उपाय जैसे चीटिंयों को खोपरे व शक्कर का बूरा खिलाना व अन्य उपाय करने से आपकी किस्मत चमक सकती है। सूर्य की आराधना यश और मान-सम्मान दिलाने वाली मानी गई है।

उपाय

1. सुबह घर से निकलने से पहले गाय की पूजा करें और रोटी खिलाएं। इससे बिगड़े हुए काम बन सकते हैं।
2. एक बर्तन में जल लेकर उसमें कुमकुम डालकर बरगद के वृक्ष पर चढ़ाएं। इससे ग्रह दोष दूर होते हैं।
3. चींटियों को खोपरे व शक्कर का बूरा मिलाकर खिलाएं। इससे घर में खुशहाली आती है।
4. सुबह नहाकर सूर्य देव को अर्घ्‍य (जल चढ़ाना ) देना चाहिए। अर्घ्‍य देते समय गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए।
मंत्र- ॐ भूर् भुवः स्वः
तत् सवितुर्वरेण्यं।
भर्गो देवस्य धीमहि
धियो यो नः प्रचोदयात् ॥

5. आदित्य हृदय का पाठ करना चाहिए।
6. रविवार को व्रत करना चाहिए, इसके अनुसार तेल, नमक नहीं खाना चाहिए और एक समय ही भोजन करना चाहिए।
7. इस दिन तांबा, गुड़, गेहूं, मसूर की दाल दान करनी चाहिए। इससे सूर्य का बूरा प्रभाव दूर होता है।

सूर्य को माना जाता है ग्रहों का राजा

- ज्योतिष के अनुासार 9 ग्रह होते हैं और सूर्य को इनका राजा माना जाता है। ऐसे में माना जाता है कि सूर्य देव की साधना करने से बाकि ग्रह भी आपको परेशानी नहीं पहुंचाते।
- वेदों में सूर्य को संसार की आत्मा माना गया है। ऋग्वेद के देवताओं कें सूर्य का महत्वपूर्ण स्थान है। यजुर्वेद के अनुसार सूर्य को भगवान का नेत्र माना जाता है।
- छान्दोग्यपनिषद के अनुसार सूर्य की ध्यान साधना करने से पुत्र की प्राप्ति होती है। ब्रह्मवैर्वत पुराण तो सूर्य को परमात्मा स्वरूप मानता है।

राम भगवान भी करते थे सूर्य पूजा

- भगवान राम सूर्य पूजा करते थे वहीं महाभारत में कर्ण भी हर रोज सूर्य की पूजा करते थे और सूर्य को अर्घ्य देते थे।
- ऐसा माना गया है कि इससे व्यक्ति को घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान मिलता है और भाग्योदय में आ रही बाधाएं दूर हो सकती हैं।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com