पाकिस्तान को सख्त चेतावनी, मारे गए दो घुसपैठियों के शव ले जाने को कहा गया: भारतीय सेना

जम्मू, 22 अक्टूबर (भाषा) हथियारों से लैस दो पाकिस्तानी घुसपैठियों की मुठभेड़ में मौत के एक दिन बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान को कठोर शब्दों में चेतावनी दी कि वह अपनी सरजमीं से सरगर्मी चलाने वाले आतंकवादियों को काबू में रखे। भारतीय सेना के एक अधिकारी ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि पाकिस्तान से दोनों पाकिस्तानी घुसपैठियों के शव भी ले जाने को कहा गया है। अधिकारी ने कहा, ‘‘पाकिस्तानी सेना को स्थापित संचार माध्यमों से सूचित किया गया है कि वह शत्रु पाकिस्तानी नागरिकों के शव ले जाए। पाकिस्तानी सेना को अपनी सरजमीं से संचालन कर रहे आतंकवादियों को काबू में रखने के लिए एक सख्त चेतावनी भेजी गई है।’’ पांच से छह पाकिस्तानी सशस्त्र घुसपैठियों के एक समूह ने जब राजौरी जिले के सुंदरबनी सेक्टर में नियंत्रण रेखा पार कर सेना के गश्ती दल पर गोलीबारी की तो जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फैंटरी के तीन सैनिक - नौशेरा (राजौरी) के हवलदार कौशल कुमार, डोडा के लांस नाइक रणजीत सिंह और पल्लांवाला (जम्मू) के रजत कुमार बासन - शहीद हो गए और सांबा के राइफलमैन राकेश कुमार घायल हो गए। दोनों तरफ से गोलीबारी के दौरान सेना की वर्दी पहने दो घुसपैठिए मारे गए। माना जाता है कि वे पाकिस्तानी ‘बॉर्डर ऐक्शन टीम’ के सदस्य थे, लेकिन उनकी शिनाख्त सुनिश्चित नहीं की जा सकी। अधिकारी ने बताया गया कि पाकिस्तान के आग्रह पर 29 मई को सैन्य संचालन महानिदेशक (डीजीएमओ) स्तर की वार्ता हुई थी और तब से सरहद पार से उकसावे की हरकतों के बावजूद संघर्षविराम का पालन करने के लिए भारतीय सेना पूरा संयम बरत रही थी। उन्होंने बताया कि 30 मई से ले कर अब तक भारतीय सेना ने घुसपैठ की सात कोशिशें नाकाम कीं जिनमें 23 आतंकवादी मारे गए। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना पूरी तरह चौकस है और आतंकवादियों की घुसपैठ की किसी भी कोशिश को नाकाम करने के लिए दिन-रात निगरानी कर रही है। भाषा
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com