गांव की तस्वीर और तकदीर बदलने के वाहक बनें युवा- रघुवर दास

रांची, पांच नवंबर (भाषा) झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सोमवार को यहां कहा कि युवा पीढ़ी गांव की तस्वीर और तकदीर बदलने की संवाहक बने क्योंकि सरकार योजनाएं बनाती है, ताकि इसका लाभ आम लोग ले सकें लेकिन कई योजनाओं में प्रशासनिक प्रक्रिया जटिल होती है, इससे ग्रामीण इलाके में निवास करने वाले लोगों तक योजनाएं नहीं पहुंच पातीं। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने प्रोजेक्ट भवन में ग्रामीण विकास के पंचायती राज विभाग के तत्वावधान में आयोजित जिला व प्रखंड समन्वयकों की समीक्षा बैठक में यह बातें कहीं। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं के सरलीकरण व आम लोगों तक योजना की पहुंच बनाने के उद्देश्य से आप जैसे युवाओं को जिला समन्वयक व प्रखंड समन्वयक के रूप में नियुक्त किया गया है। आपकी भी जिम्मेवारी बनती है। देश, राज्य, समाज को बदलने की। दास ने कहा कि अब आप अपने गांव की तस्वीर और तकदीर बदलें। इसके लिए शासन व सरकार आपको सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि जिस माटी में हमने जन्म लिया है उस माटी के लिए हमें कुछ करना है। उस माटी का कर्ज चुकाना है। इसलिए आप सभी युवाओं से अनुरोध है कि अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन ईमानदारी पूर्वक करें। सरकार की योजनाओं को गांव के धरातल पर उतारे, जिससे विकास का मार्ग प्रशस्त हो सके। साथ ही इस दिवाली संकल्प लें कि उस गरीब के घर को रोशन करना है जहां आजादी के बाद से अंधेरा । रघुवर दास ने कहा कि राज्य के 32 हजार गांव में आदिवासी विकास समिति व ग्राम विकास समिति के गठन की प्रक्रिया अब मूर्त रूप ले चुकी है। सोलह हजार गांव में आदिवासी विकास समिति और 11, 382 गांव में ग्राम विकास समिति का गठन हो चुका है। जिला समन्वयक और प्रखंड समन्वयक की जिम्मेवारी है कि वे गांव वालों के साथ बैठक कर गांव के लिए सर्वसम्मति से योजना बनाएं। अपनी योजना की जानकारी जिला के उप विकास आयुक्त को दें। महज एक सप्ताह के अंदर आपकी योजना को मंजूरी मिल जायेगी। इस योजना में होने वाले खर्च के लिए समिति के अध्यक्ष के बैंक खाते में राज्य सरकार 5 लाख रुपये जमा कर देगी। इसकी भी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। योजना के क्रियान्वयन के लिये गांव वाले भी श्रमदान करें। सरकार आपको योजना की 80 प्रतिशत राशि देगी बाकि या तो गांव वाले मिलकर दें या श्रमदान करें। इसमें ध्यान रखना है कि गांव के गरीब को रोजगार अवश्य मिले। मुख्यमयंत्री ने कहा कि प्रखंड व जिला समन्वयक गांव के किसानों को आधुनिक व बहुफसलीय खेती के लिये प्रेरित करें। उन्हें यह बतायें की राज्य सरकार 29 और 30 नवंबर को ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का आयोजन करने जा रही है। जहां देश व विदेश से प्रगतिशील व उन्नत किसान आयेंगे। इस आयोजन का लाभ किसान लें। आधुनिक व कम संसाधन में उन्नत खेती की जानकारी प्राप्त करें। किसान के हित में कार्य करने को सरकार कृतसंकल्पित है। राज्य के 52 किसानों को इजराइल भेज उन्हें आधुनिक व उन्नत कृषि की विधि से अवगत कराया गया है। भाषा,
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com