बिहार : फर्जी अंकपत्र पर बहाल हुये डाककर्मी को कठोर कारावास की सजा

पटना 22 दिसंबर (वार्ता) डाक विभाग में फर्जी अंकपत्र के आधार पर नियुक्ति पाने के मामले में एक व्यक्ति को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की बिहार की राजधानी पटना स्थित एक विशेष अदालत ने आज तीन वर्ष के सश्रम कारावास के साथ ही आठ हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सह सीबीआई के विशेष न्यायाधीश प्रवीण कुमार सिंह ने मामले में सुनवाई के बाद भोजपुर जिले में धनगेन थाना क्षेत्र के दीघा गांव निवासी बलिराम सिंह को भारतीय दंड विधान की धारा 420, 467, 468 और 471 के तहत दोषी करार देने के बाद यह सजा सुनाई है। जुर्माने की राशि अदा नहीं करने पर दोषी को दो वर्ष के कारावास की सजा अलग से भुगतनी होगी। आरोप के अनुसार, वर्ष 2003 में दोषी बलिराम सिंह डाक विभाग में फर्जी अंकपत्र के आधार पर बहाल हुआ था। दोषी ने वर्ष 2003 से 2006 तक गया पोस्टल डिविजन में डाक सहायक के पद कार्यरत रहा था।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com