रोजाना टूथपेस्ट करते हैं तो जरूर पढ़ें ये खबर, होते हैं ऐसे केमिकल

टूथपेस्ट जितना हमारे दांतों को साफ करने का काम करते हैं, उससे कहीं ज्यादा नुकसान भी पहुंचाता है। नियमों के मुताबिक, सभी कंपनियों को अपने टूथपेस्ट में इस्तेमाल किए जाने वाले पदार्थों के बारे में बताना अनिवार्य है। मगर कंपनियां ग्राहकों को गुमराह करने के लिए इसमें पदार्थों के अलावा कोड का इस्तेमाल करती हैं। इसके लिए अलग-अलग रंगों की पट्टियां टूथपेस्ट ट्यूब पर लगाई जाती हैं।
जब आप टूथपेस्ट खरीदते है तो पैक के निचले हिस्से पर आपको अलग-अलग रंग की पट्टी दिखाई देती है। मार्केट में आपको लाल, काले, नीले एवं हरे रंग की पट्टी वाले टूथपेस्ट मिल जाएंगे। लेकिन आपको इस बात का अंदाजा नहीं होता है की इन अलग-अलग रंगों की पट्टियों का क्या मतलब होता है?
जब आप टूथपेस्ट खरीदते हैं तो पैक के निचले हिस्से पर कई बार काले रंग की पट्टी आपने देखी होगी। इस काले रंग के पीछे टूथपेस्ट के कई राज छुपे होते हैं। जो टूथपेस्ट कंपनी पेस्ट में सबसे ज्यादा केमिकल का उपयोग करती है। वह अपने पैक के नीचे काले रंग की पट्टी का इस्तेमाल करती है। ऐसे टूथपेस्ट के इस्तेमाल से बचना चाहिए।
यदि आपके टूथपेस्ट के निचले हिस्से में लाल रंग की पट्टी बनी है, तो इसका मतलब इसमें भी केमिकल है। मगर ये काले रंग के पेस्ट से थोड़ा बेहतर है, क्योंकि केमिकल के साथ ही इसमें प्राकृतिक चीजों का भी इस्तेमाल किया जाता है। यह पूरी तरह से कैमिकल से बना हुआ नहीं है।
अगर आपके टूथपेस्ट पर नीले रंग का मार्क बना है तो वह टूथपेस्ट आपके लिए काफी सुरक्षित होता है। इस पेस्ट में प्राकृतिक चीजों के साथ-साथ मेडिकेशन वाले तत्व भी मौजूद होते हैं। यह पेस्ट आपके दांतों को साफ और चमकदार रखने के साथ ही मुंह की अलग-अलग बीमारियों में भी काफी कारगर होता है।
जिस टूथपेस्ट पर हरे रंग की पट्टी बनी होती है, वह हमारी सेहत के लिए सबसे बेहतर माना जाता है। हरे रंग की पट्टी का मतलब आपके पेस्ट में सिर्फ प्राकृतिक या हर्बल तत्वों का ही इस्तेमाल किया गया है। जो सेहत के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है।
टूथपेस्ट में कई प्रकार के केमिकल पाए जाते हैं। फ्लोराइड, डिटरजेंट, सोर्बिटोल, बेकिंग सोडा, पोटेशियम नाइट्रेट, कैल्शियम, डाई कैल्शियम फास्फेट के अलावा भी कई केमिकल होते हैं।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com