कल तक के लिए टली कुलभूषण जाधव मामले की सुनवाई

  • कल तक के लिए टली कुलभूषण जाधव मामले की सुनवाई

अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) हेग में सोमवार से कुलभूषण जाधव के मामले में सार्वजनिक सुनवाई शुरू हो गई है। भारत और कुभूषण जाधव की तरफ से हरीश साल्वे पेश हुए हैं और वह आईसीजे में दलीलें रख रहे हैं। आपको बता दें कि द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद अंतरराष्ट्रीय विवादों को हल करने के लिए आईसीजे की स्थापना की गई थी। पाकिस्तानी सेना की अदालत ने अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के आरोपों पर भारतीय नागरिक जाधव को मौत की सजा सुनाई थी। भारत ने इसके खिलाफ उसी साल मई में आईसीजे का दरवाजा खटखटाया था। आईसीजे की 10 सदस्यीय पीठ ने 18 मई 2017 में पाकिस्तान को मामले में न्यायिक निर्णय आने तक जाधव को सजा देने से रोक दिया था।
  • भारत ने आईसीजे के सामने कहा कि पाकिस्तान ने प्रोपेगेंडा के लिए अंतरराष्ट्रीय अदालत का गलत इस्तेमाल किया।
  • -संयुक्त राष्ट्र की अदालत में हरीश साल्वे ने कहा, वियना कन्वेंशन के अनुच्छेद 36 में कहा गया है कि किसी देश को अपने नागरिकों की नजरबंदी के बारे में सूचित किया जाना चाहिए, लेकिन पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव की 'गिरफ्तारी' के बारे में भारत को सूचित नहीं किया। उन्होंने कहा कि वियना कन्वेंशन के अनुच्छेद 36 के अनुसार, ट्रायल पूरा होने से पहले काउंसलर एक्सेस दिया जाना चाहिए लेकिन जाधव मामले में भारत को काउंसलर एक्सेस नहीं दिया गया था।
  • संयुक्त राष्ट्र की अदालत में हरीश साल्वे ने कहा, पाकिस्तान के पास कोई पुख्ता जवाब नहीं है। पाकिस्तान को तथाकथित अपराध के मूलभूत अधिकारों की भी जानकारी नहीं है। इस्लामाबाद द्वारा उठाए गए मुद्दों की कोई प्रासंगिकता नहीं है।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com