बीसीसीआई को फंसाने चला था, खुद पीसीबी को देना पड़ा 11 करोड़ का मुआवजा

कराची. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष एहसान मनी ने कहा है कि उन्होंने आईसीसी की विवाद समाधान समिति में मुकदमा हारने के बाद बीसीसीआई को मुआवजे के तौर पर 16 लाख डॉलर ( करीब 11 करोड़ रुपए) की राशि दे दी है। मनी ने कहा, ‘हमने मुआवजे के मामले में लगभग 22 लाख डॉलर खर्च किये, जो हमने गंवा दिए।’
उन्होंने कहा, ‘इस मामले में भारत को भुगतान की गई राशि के अलावा अन्य खर्च कानूनी फीस और यात्रा से संबंधित थे।’ पीसीबी ने पिछले साल बीसीसीआई के खिलाफ आईसीसी की विवाद समाधान समिति के समक्ष लगभग सात करोड़ डॉलर के मुआवजे का दावा करते हुए मामला दायर किया था।

भारत को पाकिस्तान से 6 द्विपक्षीय सीरीज खेलनी थी
पीसीबी ने बीसीसीआई पर दोनों बोर्डों के बीच समझौता ज्ञापन का सम्मान नहीं करने का मामला दर्ज किया किया था। इस समझौते के मुताबिक, 2015 से 2023 तक भारत को पाकिस्तान के खिलाफ 6 द्विपक्षीय सीरीज खेलनी थी, जिसे बीसीसीआई ने नहीं माना।

बीसीसीआई ने कहा- समझौता ज्ञापन और प्रस्ताव दोनों अलग-अलग चीजें
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की दलील थी कि वे पाकिस्तान से इसलिए नहीं खेल पा रहे है क्योंकि सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी। भारत ने पाकिस्तान के उस दावे को भी खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने समझौता ज्ञापन को कानूनी रूप से बाध्यकारी बताया था। बीसीसीआई ने कहा है कि वह महज एक प्रस्ताव था।
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com