आम्रपाली ग्रुप के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी, जानिए क्या है मामला

आम्रपाली ग्रुप द्वारा बकाया रकम न देने के मामले में पूर्व क्रिकेट कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है. धोनी ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई याचिका में कहा है आम्रपाली ग्रुप के प्रमोशन करने के बाद भी कंपनी पर उनके लगभग 40 करोड़ रुपये बकाया हैं. सर्विसेज ओर प्रमोशन करने के एवज में कंपनी ने धोनी को 40 करोड़ रुपये का भुगतान नहीं किया था. महेंद्र सिंह धोनी 2009 में कंपनी के प्रमोशन के लिए जुड़े थे.
2009 में धोनी ने आम्रपाली ग्रुप के साथ कई समझौते किए और कंपनी के ब्रैंड एंबेसडर बने. धोनी आम्रपाली ग्रुप के साथ छह साल तक जुड़े रहे, लेकिन 2016 में जब कंपनी द्वारा ठगे गए होम बायर्स ने सोशल मीडिया पर धोनी के खिलाफ अभियान छेड़ा तो उन्होंने आम्रपाली से संबंध खत्म कर दिये. धोनी की पत्नी साक्षी भी ग्रुप के चैरिटी कार्यक्रम से जुड़ी थीं.
सुप्रीम कोर्ट इस समूह के खिलाफ 46 हजार घर खरीदारों की याचिका पर सुनवाई कर रहा है, जिन्हें समय पर फ्लैट नहीं दिया गया. कोर्ट ने समूह की सभी संपत्तियों को जब्त करने का आदेश दिया है. धोनी भी अपने वित्तीय हित की रक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे हैं. एमएस ने कोर्ट से कहा है कि उनके हितों की रक्षा के लिए ग्रुप के जमीन में से एक खंड उनके लिए भी निश्चित हो.
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com